HomePoetsप्रदीप - Pradeepहम तो अलबेले मज़दूर – प्रदीप | Hum Toh...

हम तो अलबेले मज़दूर – प्रदीप | Hum Toh Albele Majdoor – Pradeep

- ADVERTISEMENT -

हम तो अलबेले मज़दूर गज़ब हमारी जादूगरी
जादूगरी भाई जादूगरी गज़ब हमारी जादूगरी
हम तो अलबेले मज़दूर गज़ब हमारी जादूगरी

कहो तो फ़ौरन महल बना दें
पास में बढ़िया बाग़ लगा दें
जहाँ पे छम-छम नाचे सलोनी
कोई छबीली परी राम हो जादूगरी

हम तो अलबेले मज़दूर गज़ब हमारी जादूगरी

हम पत्थर में प्राण जगा दें
हम मिट्टी में जीवन ला दें
नखरे वाली डलिया मोरी
नखरे वाली डलिया मोरी
नखरे वाली डलिया मोरी
बडी गुमान भरी
राम हो जादूगरी

हम तो अलबेले मज़दूर गज़ब हमारी जादूगरी

- Advertisement -

Subscribe to Our Newsletter

- Advertisement -

- YOU MAY ALSO LIKE -