HomePoetsभारतेंदु हरिश्चंद्र - Bharatendu Harishchandraऊधो जो अनेक मन होते - भारतेंदु हरिश्चंद्र |...

ऊधो जो अनेक मन होते – भारतेंदु हरिश्चंद्र | Udho Jo Anek Mann Hote – Bharatendu Harishchandra

- ADVERTISEMENT -

ऊधो जो अनेक मन होते
तो इक श्याम-सुन्दर को देते, इक लै जोग संजोते।

एक सों सब गृह कारज करते, एक सों धरते ध्यान।
एक सों श्याम रंग रंगते, तजि लोक लाज कुल कान।

को जप करै जोग को साधै, को पुनि मूँदे नैन।
हिए एक रस श्याम मनोहर, मोहन कोटिक मैन।

ह्याँ तो हुतो एक ही मन, सो हरि लै गये चुराई।
‘हरिचंद’ कौउ और खोजि कै, जोग सिखावहु जाई॥

- Advertisement -

Subscribe to Our Newsletter

- Advertisement -

- YOU MAY ALSO LIKE -