Home Poets मैथिलीशरण गुप्त - Maithili Sharan Gupt प्रतिशोध – मैथिलीशरण गुप्त | Pratishodh – Maithili Sharan Gupt

प्रतिशोध – मैथिलीशरण गुप्त | Pratishodh – Maithili Sharan Gupt

0
34

किसी जन ने किसी से क्लेश पाया
नबी के पास वह अभियोग लाया।
मुझे आज्ञा मिले प्रतिशोध लूँ मैं।
नहीं निःशक्त वा निर्बोध हूँ मैं।
उन्होंने शांत कर उसको कहा यों
स्वजन मेरे न आतुर हो अहा यों।
चले भी तो कहाँ तुम वैर लेने
स्वयं भी घात पाकर घात देने
क्षमा कर दो उसे मैं तो कहूँगा
तुम्हारे शील का साक्षी रहूंगा
दिखावो बंधु क्रम-विक्रम नया तुम
यहाँ देकर वहाँ पाओ दया तुम।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here