Home Poets प्रदीप - Pradeep खिलौना माटी का – प्रदीप | Khilona Maati Ka – Pradeep

खिलौना माटी का – प्रदीप | Khilona Maati Ka – Pradeep

0
48
Khilona Maati Ka – Pradeep

तूने खूब रचा भगवान्
खिलौना माटी का
इसे कोई ना सका पहचान
खिलौना माटी का

वाह रे तेरा इंसान विधाता
इसका भेद समझ में ना आता
धरती से है इसका नाता
मगर हवा में किले बनाता
अपनी उलझन आप बढाता
होता खुद हैरान
खिलौना माटी का
तूने खूब रचा खूब गड़ा
भगवान् खिलौना माटी का

कभी तो एकदम रिश्ता जोड़े
कभी अचानक ममता तोड़े
होके पराया मुखड़ा मोड़े
अपनों को मझधार में छोड़े
सूरज की खोज में इत उत दौड़े
कितना ये नादान
खिलौना माटी का
तूने खूब रचा खूब गड़ा
भगवान् खिलौना माटी का

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here