Home Poets शिवमंगल सिंह सुमन - ShivMangal Singh Suman हम पंछी उन्मुक्त गगन के – शिवमंगल सिंह सुमन | Hum Panchhi...

हम पंछी उन्मुक्त गगन के – शिवमंगल सिंह सुमन | Hum Panchhi Unmukt Gagan Ke – ShivMangal Singh Suman

0
63
Hum Panchhi Unmukt Gagan Ke

हम पंछी उन्मुक्त गगन के
पिंजरबद्ध न गा पाऍंगे
कनक-तीलियों से टकराकर
पुलकित पंख टूट जाऍंगे।

हम बहता जल पीनेवाले
मर जाऍंगे भूखे-प्यासे
कहीं भली है कटुक निबोरी
कनक-कटोरी की मैदा से।

स्वर्ण-श्रृंखला के बंधन में
अपनी गति, उड़ान सब भूले
बस सपनों में देख रहे हैं
तरू की फुनगी पर के झूले।

ऐसे थे अरमान कि उड़ते
नील गगन की सीमा पाने
लाल किरण-सी चोंच खोल
चुगते तारक-अनार के दाने।

होती सीमाहीन क्षितिज से
इन पंखों की होड़ा-होड़ी
या तो क्षितिज मिलन बन जाता
या तनती सॉंसों की डोरी।

नीड़ न दो, चाहे टहनी का
आश्रय छिन्न-भिन्न कर डालो
लेकिन पंख दिए हैं तो
आकुल उड़ान में विघ्न न डालो।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here