Home Poets माखनलाल चतुर्वेदी - Makhanlal Chaturvedi पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी | Pushp Ki Abhilasha – Makhanlal...

पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी | Pushp Ki Abhilasha – Makhanlal Chaturvedi

0
63

चाह नहीं मैं सुरबाला के
गहनों में गूँथा जाऊँ

चाह नहीं, प्रेमी-माला में
बिंध प्यारी को ललचाऊँ

चाह नहीं, सम्राटों के शव
पर हे हरि, डाला जाऊँ

चाह नहीं, देवों के सिर पर
चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ

मुझे तोड़ लेना वनमाली
उस पथ पर देना तुम फेंक

मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पर जावें वीर अनेक ।।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here