POET: दुष्यंत कुमार - Dushyant Kumar

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है – दुष्यंत कुमार | Iss Nadi Ki Dhaar Mein Thandi Hawa Aati Toh Hai...

इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है,नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है। एक चिनगारी कही से ढूँढ लाओ दोस्तों,इस...

हो गई है पीर पर्वत-सी – दुष्यंत कुमार | Ho Gayi Hai Peer Parvat – Dushyant Kumar

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिएइस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगीशर्त थी लेकिन कि ये...

Subscribe to our newsletter

Stay updated with all the latest poetries.

- ADVERTISEMENT -