Home Poets Ramdhari Singh "Dinkar" | रामधारी सिंह “दिनकर” Parichay – Ramdhari Singh “Dinkar” | परिचय – रामधारी सिंह “दिनकर”

Parichay – Ramdhari Singh “Dinkar” | परिचय – रामधारी सिंह “दिनकर”

0
127

परिचय कविता

Parichay Poem

सलिल कण हूँ, या पारावार हूँ मैं
स्वयं छाया, स्वयं आधार हूँ मैं
बँधा हूँ, स्वप्न हूँ, लघु वृत हूँ मैं
नहीं तो व्योम का विस्तार हूँ मैं

salil kant hoon, ya pavaar hoon main
aatm chhaaya, aatm aadhaar main
hoon bandha hoon, svapn hoon, laghu vrt hoon main
nahin to vyom ka vistaar hoon main

समाना चाहता, जो बीन उर में
विकल उस शून्य की झंकार हूँ मैं
भटकता खोजता हूँ, ज्योति तम में
सुना है ज्योति का आगार हूँ मैं

Samaana chaahata hai, jo been ur ​​mein
vikal us shoony kee jhankaar hoon main
bhatakata khojata hoon, jyoti tam mein
suna hai jyoti ka aagaar hoon main

जिसे निशि खोजती तारे जलाकर
उसी का कर रहा अभिसार हूँ मैं
जनम कर मर चुका सौ बार लेकिन
अगम का पा सका क्या पार हूँ मैं

Jise nishi khojatee taare jalaakar
usee ka kar raha abhisaar hoon main
janam kar marat so sau baar
agam ka pa ban kya paar hoon main

कली की पंखुडीं पर ओस-कण में
रंगीले स्वप्न का संसार हूँ मैं
मुझे क्या आज ही या कल झरुँ मैं
सुमन हूँ, एक लघु उपहार हूँ मैं

Kalee kee pankhudeen par os-kan mein
rangeele svapn ka sansaar hoon main
mujhe kya aaj hee ya kal jharun main
suman hoon, ek laghu upahaar hoon main

मधुर जीवन हुआ कुछ प्राण! जब से
लगा ढोने व्यथा का भार हूँ मैं
रुंदन अनमोल धन कवि का,
इसी से पिरोता आँसुओं का हार हूँ मैं

Madhur jeevan hua kuchh praan! jab se
laga dhone vyatha ka bhaar hoon main
rundan anamol dhan kavi ka,
isee se pirota aansuon ka haar hoon main

मुझे क्या गर्व हो अपनी विभा का
चिता का धूलिकण हूँ, क्षार हूँ मैं
पता मेरा तुझे मिट्टी कहेगी
समा जिसमें चुका सौ बार हूँ मैं

Mujhe kya garv ho apanee vibha ka
chita ka dhoolikan hoon, kshaar hoon main
pata mera tujhe mittee kahegee
sama jisamen chuka sau baar hoon main

न देंखे विश्व, पर मुझको घृणा से
मनुज हूँ, सृष्टि का श्रृंगार हूँ मैं
पुजारिन, धुलि से मुझको उठा ले
तुम्हारे देवता का हार हूँ मैं

Na denkhe vishv, par mujhako ghrna se
manuj hoon, srshti ka shrrngaar hoon main
pujaarin, dhuli se mujhako utha le
tumhaare devata ka haar hoon main

सुनुँ क्या सिंधु, मैं गर्जन तुम्हारा
स्वयं युग-धर्म की हुँकार हूँ मैं
कठिन निर्घोष हूँ भीषण अशनि का
प्रलय-गांडीव की टंकार हूँ मैं

Sunun kya sindhu, main garjan tumhaara
svayan yug-dharm kee hunkaar hoon main
kathin nirghosh hoon bheeshan ashani ka
pralay-gaandeev kee tankaar hoon main

दबी सी आग हूँ भीषण क्षुधा का
दलित का मौन हाहाकार हूँ मैं
सजग संसार, तू निज को सम्हाले
प्रलय का क्षुब्ध पारावार हूँ मैं

Dabee see aag hoon bheeshan kshudha ka
dalit ka maun haahaakaar hoon main
sajag sansaar, too nij ko samhaale
pralay ka kshubdh paaraavaar hoon main

बंधा तूफान हूँ, चलना मना है
बँधी उद्याम निर्झर-धार हूँ मैं
कहूँ क्या कौन हूँ, क्या आग मेरी
बँधी है लेखनी, लाचार हूँ मैं।।

Bandha toophaan hoon, chalana mana hai
bandhee udyaam nirjhar-dhaar hoon main
kahoon kya kaun hoon, kya aag meree
bandhee hai lekhanee, laachaar hoon main

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here