Kavitayen

About

spot_img

मंगल-आह्वान – रामधारी सिंह “दिनकर” |Mangal Ahwahan – Ramdhari Singh Dinkar

भावों के आवेग प्रबलमचा रहे उर में हलचल। कहते, उर के बाँध तोड़स्वर-स्त्रोत्तों में बह-बह अनजान,तृण, तरु, लता, अनिल, जल-थल कोछा लेंगे हम बनकर गान। पर,...

Parichay – Ramdhari Singh “Dinkar” | परिचय – रामधारी सिंह “दिनकर”

परिचय कविता Parichay Poem सलिल कण हूँ, या पारावार हूँ मैंस्वयं छाया, स्वयं आधार हूँ मैंबँधा हूँ, स्वप्न हूँ, लघु वृत हूँ मैंनहीं तो व्योम...

Shakti Aur Kshama – शक्ति और क्षमा | Ramdhari Singh “Dinkar”

https://www.youtube.com/watch?v=9vyYd1-lKI8 Shakti Aur Kshama Poem Explanation In the "Shakti Aur Kshama" poem, Ramdhari Singh Dinkar shows his interpreting power and forgiveness. According to him, Pandavas had...

Worldwide News, Local News in San Francisco, Tips & Tricks